Monday, November 8, 2021

Demonizing Hindus, Derogating Hinduism: Political Activism

 The month of August has been traumatic for South Asians and all who worry about human rights and religious freedom. Many of us sat glued to our news sources, tracking the fall of Afghanistan, wondering how to make sense of the chaos that ensued. For Hindu Americans, there are parallels with the chaotic and violent world that surrounded the birth of our Krishna, in a jail, where his parents had been imprisoned by a tyrannical and murderous king, who happened to also be his uncle!  And so, even as Hindu Americans were celebrating the joyous festival of Krishna’s birth, we were also anguished by an upcoming academic conference titled, “Dismantling Global Hindutva,” organized by a largely anonymous group featuring a hodge-podge smattering of known Hindu-baiters, avowed anti-Hindu academics, and activists across the world who have triumphally proclaimed to balkanize India on the basis of religion, caste, language, and ethnicity.

As an academic who has organized/been part of many global conferences it is puzzling to watch how the conference has been advertised on social media, and the claims and counterclaims about who is officially supporting the conference, who are scheduled to speak, and why the anonymity sought by the organizers. Academic conferences usually analyze or discuss a topic by featuring a variety of speakers offering different, even opposing views. The “Dismantling Global Hindutva” conference is not offering space to anyone who wants to speak in favor of Hindus, Hindutva, and Hinduism. The organizers claim “support” of more than 40 universities in the US and Canada, including those of Harvard, Berkeley, and the University of Toronto — an impressive list designed to convince an uninformed observer that indeed Hindus must be an abominable lot. Yet even this “sponsorship” remains a highly contested topic.

A quick look at the topics listed for discussion would make it seem that indeed Hinduism needs to be “dismantled,” and Hindus do need to be pushed into a corner, bracketed with fascists, neo-Nazis, White supremacists, and other such hate groups. Especially interesting is the choice to hold the conference on the twentieth anniversary of 9/11, turning what ought to be a day for solemn remembrance for all Americans, into a day where Hindus will instead hear their faith dissected and “analyzed” by speakers with a known history of attacking it.

It can be argued, as some have, that Western academe is built on the guiding principle of “freedom of thought and expression”. Academic freedom is what universities guarantee, as a letter from President Holloway of Rutgers University asserts, but what is equally important is academic responsibility and the need for representation from within the community or group that is being demonized. Scholarship and inquiry can only thrive when there is real freedom of expression, and when people can weigh the merits of arguments put forward and the evidence presented. Alas, the conference organizers seem to believe that in matters of their ideological commitments, no opposing voice can be heard, no challenge posed to their curdled view of the Hindu world, Hindu texts, Hindu festivals, Hindu life, and Hindu activism.

It is therefore imperative for us to find out why these forty universities are enabling the demonizing of a micro-minority in the US and Canada. Where is their concern for the safety of their Hindu students, faculty, and staff who do not countenance the hate streaming out of some of their university departments, the offices of their tenured faculty, not surreptitiously, in the dark of the night, but in broad daylight, with the imprimatur of these universities? President Holloway, in his letter, claims that his university “…is committed to fostering a beloved community in which all members are able to freely engage in academic discourse and practice their religious faiths in a safe environment”. How safe are the more than 5,000 students at his university who are Hindu Americans, some of whom have gone public with their concerns?

In a particularly tone-deaf statement, the DGHC organizers have sought  to center “Hindutva” (Hindu-ness) as a center of global concern — even as the last Hindus and Sikhs were run  out of their historic homelands in Afghanistan. Equally galling is the outright denial that Hinduphobia exists – for this year marks the fiftieth anniversary of the genocide of Bengali Hindus. US Congressional reports have recorded the murder and rape of millions of Hindus in a state-sponsored pogrom, and as detailed in a book titled, “The Blood Telegram: Nixon, Kissinger and a Forgotten Genocide” Pakistan’s army generals allowed their soldiers to let loose a reign of terror as East Pakistan sought to separate from West Pakistan, leading to the birth of Bangladesh. Even as we Hindus seek to honor and grieve for those dead, we are instead being marked as subscribers to “Hindutva”. This labelling of Hindus has an inglorious history, from the yellow patches we have had to wear under the Taliban rule, to the letter “H” shopkeepers were asked to draw on their shops in East Pakistan.

Hindus are the last bastions fighting the two-millennia-old battle against supremacist, monopolist, and violent religious and political forces. Every culture and civilization of the past have now been subsumed by these forces, and they want to divvy out the spoils of their victory once we Hindus are silenced.

But, as Lord Krishna advised Arjuna on the Kurukshetra battlefield: “Do your duty, fight the battle, do it without expecting rewards, and believe in Me”.  And so, there are thousands of individual Hindus and organizations who are fighting the good battle – the Coalition of Hindus of North America, the Hindu American Foundation, and others.  More than 150 Hindu and Indian American organizations, from some of the largest Hindu temples and national associations to interfaith allies and local cultural groups, have signed a letter in protest asking universities to stand against Hinduphobia and to distance themselves from the “Dismantling Global Hindutva” conference. These groups represent hundreds of thousands of Hindus who are citizens and residents of the US and Canada, and who have contributed to the enrichment of these two nations.

The broader Hindu community is upset, angry, and dismayed that American and Canadian university administrators are tone-deaf about these vile attempts by their faculty to paint Hindus into corners. While the privileged organizers and supporters of the Hinduphobic conference have monopolized public discourse, they do not reflect the broader and mainstream Hindu community. We refuse to be tarred and feathered by this privileged and powerful academic cabals who seek to tell us who we are, define what our spiritual and faith identities are, and what constitutes Hinduism: the “Dismantling Global Hindutva” conference and its backers are no different from the colonizers who attempted to define Hinduism and create policies based on a bigoted understanding of indigenous practices.

So, what can we do, and what will we do? It is said that Krishna, as a little boy, was full of mischief, stealing butter stored in earthen pots. When one day, his foster mother Yashoda asks him to open his mouth and show the stolen butter, Krishna opens his mouth and Yashoda sees the universe as it is – violent, bloody, conflicted, filled with grief. Yashoda quickly asks little Krishna to close his mouth. We know that the world we live in is bloody and conflicted, and those who instigate the violence are also at the helm of crying “peace”. We Hindus know how to attain “shanti/peace”. We will continue to show the world how and do so without shutting up others or destroying others. We will do battle for dharma/righteousness. We have done so for millennia.

sabhar from india facts :

Dr. Ramesh Rao

The author is Professor of Communication Studies, Department of Communication,  Columbus State University, Columbus, GA. He has published widely over the past three decades, and his latest book is titled, “The Election that Shaped Gujarat & Narendra Modi’s Rise to National Stardom”.

Thursday, August 8, 2019

आचार्य अभिनवगुप्त की भूमि है कश्मीर

महानतम दार्शनिक आचार्य अभिनवगुप्त की भूमि है कश्मीर, यहां की सनातन परंपरा को पहचानिए, जड़ों को जानिए.....
   08-अगस्त-2019

 
 
सतातन परम्परा के रत्नगर्भा कश्मीर ने भारत और विश्व को असंख्य अनमोल रत्न दिये हैं, जिन्होंने अपने आध्यात्मिक ज्ञान, साधना की पराकाष्ठा से समस्त विश्व को नयी दिशा दिखायी। कश्मीर में अनेक मत-पंथ जन्मे, फले-फूले। तात्कालीन सामाजिक आध्यात्मिक व्यवस्था में कई बार बदलाव हुए, लेकिन नये बदलाव ने पुराने के खारिज नहीं किया। आचार्य अभिनवगुप्त इसी श्रंखला की सबसे महत्वपूर्ण कड़ी हैं। आचार्य अभिनवगुप्त का जन्म कश्मीर में 10 वीं शताब्दी के मध्य भाग में हुआ था (लगभग 950 ई. - 960 ई. के बीच)। इनका कुल अपनी विद्या, विद्वता तथा तांत्रिक साधना के लिए कश्मीर में नितांत प्रख्यात था। इनके पितामह का नाम था वराहगुप्त तथा पिता का नरसिंहगुप्त जो लोगों में "चुखुल" या "चुखुलक" के घरेलू नाम से भी प्रसिद्ध थे। अभिनव में ज्ञान की इतनी तीव्र पिपासा थी कि इसकी तृप्ति के लिए इन्होंने कश्मीर के बाहर जालंधर की यात्रा की और वहाँ अर्धत्र्यंबक मत के प्रधान आचार्य शंभुनाथ से कौलिक मत के सिद्धांतों और उपासनातत्वों का प्रगाढ़ अनुशीलन किया। इन्होंने अपने गुरुओं के नाम ही नहीं दिए हैं, प्रत्युत उनसे अधीत शास्त्रों का भी निर्देश किया है। इन्होंने व्याकरण का अध्ययन अपने पिता नरसिंहगुप्त से, ब्रह्मविद्या का भूतिराज से, क्रम और त्रिक्दर्शनों का लक्ष्मण गुप्त से, ध्वनि का भट्टेंद्रराज से तथा नाट्यशास्त्र का अध्ययन भट्ट तोत (या तौत) से किया। इनके गुरुओं की संख्या बीस तक पहुँचती है।
 
 
 
भारत की ज्ञान-परंपरा में आचार्य अभिनवगुप्त एवं कश्मीर की स्थिति को एक ‘संगम-तीर्थ’ के रूपक से बताया जा सकता है। जैसे कश्मीर (शारदा देश) संपूर्ण भारत का ‘सर्वज्ञ पीठ’ है, वैसे ही आचार्य अभिनवगुप्त संपूर्ण भारतवर्ष की सभी ज्ञान-विधाओं एवं साधना की परंपराओं के सर्वोपरि समादृत आचार्य हैं। काश्मीर केवल शैवदर्शन की ही नहीं, अपितु बौद्ध, मीमांसक, नैयायिक, सिद्ध, तांत्रिक, सूफी आदि परंपराओं का भी संगम रहा है। आचार्य अभिनवगुप्त अद्वैत आगम एवं प्रत्यभिज्ञा-दर्शन के प्रतिनिधि आचार्य तो हैं ही, साथ ही उनमें एक से अधिक ज्ञान-विधाओं का भी समाहार है।
 
 
भारतीय ज्ञान-दर्शन में यदि कहीं कोई ग्रंथि है, कोई पूर्व पक्ष और सिद्धांत पक्ष का निष्कर्षविहीन वाद चला आ रहा है और यदि किसी ऐसे विषय पर आचार्य अभिनवगुप्त ने अपना मत प्रस्तुत किया हो तो वह ‘वाद’ स्वीकार करने योग्य निर्णय को प्राप्त कर लेता है। उदाहरण के लिए साहित्य में उनकी भरतमुनिकृत रस-सूत्र की व्याख्या देखी जा सकती है जिसे ‘अभिव्यक्तिवाद’ के नाम से जाना जाता है। भारतीय ज्ञान एवं साधना की अनेक धाराएँ अभिनवगुप्तपादाचार्य के विराट् व्यक्तित्व में आ मिलती हैं और एक सशक्त धारा के रूप में आगे चल पड़ती है।
 
 
दार्शनिक परम्परा के कुल में जन्मे थे आचार्य अभिनवगुप्त
 
 

 
 
आचार्य अभिनवगुप्त के पूर्वज अत्रिगुप्त (8वीं शताब्दी) कन्नौज प्रांत के निवासी थे। यह समय राजा यशोवर्मन का था। अत्रिगुप्त कई शास्त्रों के विद्वान थे और शैवशासन पर उनका विशेष अधिकार था। कश्मीर नरेश ललितादित्य ने 740 ई. जब कान्यकुब्ज प्रदेश को जीतकर कश्मीर के अंतर्गत मिला लिया तो उन्होंने अत्रिगुप्त से कश्मीर में चलकर निवास की प्रार्थना की। वितस्ता (झेलम) के तट पर भगवान शितांशुमौलि (शिव) के मंदिर के सम्मुख एक विशाल भवन अत्रिगुप्त के लिये निर्मित कराया गया। इसी यशस्वी कुल में अभिनवगुप्त का जन्म लगभग 200 वर्ष बाद (950 ई.) हुआ। उनके पिता का नाम नरसिंहगुप्त तथा माता का नाम विमला था जिन्हें अपने ग्रंथों में वे आदर और श्रद्धा से स्मरण करते हुए ‘विमलकला’ कहते हैं।
 
 
भगवान शिव के अवतार कहे जाते हैं आचार्य अभिनवगुप्त
 
 
भगवान् पतंजलि की तरह आचार्य अभिनवगुप्त भी शेषावतार कहे जाते हैं। शेषनाग ज्ञान-संस्कृति के रक्षक हैं। अभिनवगुप्त के ग्रंथ तंत्रालोक के टीकाकार आचार्य जयरथ ने उन्हें ‘योगिनीभू’ कहा है। इस रूप में तो वे स्वयं ही शिव के अवतार के रूप में प्रतिष्ठित हैं।
 
 
 
 
मधुराज योगिन के शब्दों में आचार्य अभिनवगुप्त का शब्दचित्र
 
 
प्रभावान दक्षिणमूर्ति (आचार्य अभिनवगुप्त), जोकि साक्षात शिव के अवतार हैं, हमारी रक्षा करें। अपनी करूणा के कारण ही वो नया शरीर धारण कर कश्मीर में अवतरित हुए हैं। वे सुनहरे अंगूरों की वाटिका के बीच एक मण्डप में विराजमान हैं, जो रत्नजड़ित है और जिसके भीतर सुंदर कलाकृतियां लगी हुई हैं। मंडप के चारों और फूलों, अगरबत्तियों और प्रज्जवलित दीपों की सुगंध फैली हुई है। चारों ओर योगिनियां, ज्ञानीजनों औऱ चामात्कारिक शक्तिवाले सिद्धों की भीड़ है। अभिनवगुप्त आध्यात्मिक आनंद की अवस्था में हैं। उनकी आँखों की पुतलियां उल्लास के कारण नाच रही हैं। उनके माथे के बीच भस्म का तिलक लगा लगा है। उनके एक कान में रूद्राक्ष लटक रहा है और उनके सुंदर लंबे केश फूलों की माला से पीछे की ओर बंधें हुए हैं। उनकी दाढ़ी लंबी है और तन का रंग स्वर्णिम है। उनकी ग्रीवा चमकदार यक्षपंक भस्म के कारण काली है। ग्रीवा से उनका उपवीत नीचे की ओर लटक रहा है। वे चंद्र-किरणों की भांति धवल रेशमी वस्त्र पहने योगासन में बैठे हैं, जिसे वीरमुद्रा कहते हैं। उनका एक हाथ घुटने पर है, हाथ में माला है। ऐसी मुद्रा में हैं जो उनकी परम चैतन्य की अनुभूति का प्रतीक हैं। कमल-जैसे सुंदर दूसरे हाथ की उंगलियों से वो वीणा के तार बजा रहे हैं।
 
 
 
 
 आचार्य अभिनवगुप्त के ज्ञान की प्रामाणिकता इस संदर्भ में है कि उन्होंने अपने काल के मूर्धन्य आचार्यों-गुरुओं से ज्ञान की कई विधाओं में शिक्षा-दीक्षा ली थी। उनके पितृवर श्री नरसिंहगुप्त उनके व्याकरण के गुरु थे। इसी प्रकार लक्ष्मणगुप्त प्रत्यभिज्ञाशास्त्र के तथा शंभुनाथ (जालंधर पीठ) उनके कौल-संप्रदाय के साधना के गुरु थे। उन्होंने अपने ग्रंथों में अपने नौ गुरुओं का सादर उल्लेख किया है। भारतवर्ष के किसी एक आचार्य में विविध ज्ञान विधाओं का समाहार मिलना दुर्लभ है। यही स्थिति शारदा क्षेत्र कश्मीर की भी है। इस अकेले क्षेत्र से जितने आचार्य हुए हैं उतने देश के किसी अन्य क्षेत्र से नहीं हुए।
 
 
 
 
जैसी गौरवशाली आचार्य अभिनवगुप्त की गुरु परम्परा रही है वैसी ही उनकी शिष्य परंपरा भी है। उनके प्रमुख शिष्यों में क्षेमराज , क्षेमेन्द्र एवं मधुराजयोगी हैं। यही परंपरा सुभटदत्त (12वीं शताब्दी) जयरथ, शोभाकर-गुप्त, महेश्वरानन्द (12वीं शताब्दी), भास्कर कंठ (18वीं शताब्दी) प्रभृति आचार्यों से होती हुई स्वामी लक्ष्मण जू तक आती है। दुर्भाग्यवश यह विशद एवं अमूल्य ज्ञान राशि इतिहास के घटनाक्रमों में धीरे-धीरे हाशिये पर चली गई। यह केवल काश्मीर के घटनाक्रमों के कारण नहीं हुआ।
 
 
14वीं शताब्दी के अद्वैत वेदान्त के आचार्य सायण -माधव (माधवाचार्य) ने अपने सुप्रसिद्ध ग्रन्थ ‘सर्वदर्शन संग्रह’ में सोलह दार्शनिक परम्पराओं का विवेचन शांकर-वेदांत की दृष्टि से किया है। आधुनिक विश्वविद्यालयी पद्धति केवल षड्दर्शन तक ही भारतीय दर्शन का विस्तार मानती है और इन्हे ही आस्तिक दर्शन और नास्तिक दर्शन के द्वन्द्व-युद्ध के रूप में प्रस्तुत करती है। आगमोक्त दार्शनिक परम्पराएँ जिनमें शैव, शाक्त, पांचरात्र आदि हैं, वे कहीं विस्मृत होते चले गए।
 
 
आचार्य अभिनवगुप्त ने अपने सुदीर्घ जीवन को केवल तीन महत् लक्ष्यों के लिए समर्पित कर दिया- शिवभक्ति, ग्रंथ निर्माण एवं अध्यापन। उनके द्वारा रचित 42 ग्रंथ बताए जाते हैं, इनमें से केवल 20-22 ही उपलब्ध हो पाए हैं। सौ से अधिक ऐसे आगम ग्रंथ हैं, जिनका उल्लेख-उद्धरण उनके ग्रंथों में तो है, लेकिन अब वे लुप्तप्राय हैं। अभिनवगुप्त के ग्रंथों की पांडुलिपियां दक्षिण में प्राप्त होती रही हैं, विशेषकर केरल राज्य में। उनके ग्रंथ संपूर्ण प्राचीन भारतवर्ष में आदर के साथ पढ़ाये जाते रहे थे। 70 वर्ष की अवस्था में जब उन्होंने महाप्रयाण किया तब उनके 10 हजार शिष्य कश्मीर में थे।
 
4 जनवरी 1016 को श्रीनगर से गुलमर्ग जाने वाले मार्ग पर स्थित भैरव गुफा में प्रवेश कर उन्होंने सशरीर महाप्रयाण किया।
 
 
आचार्य अभिनवगुप्त द्वारा रचित ग्रंथ
 
 
अभिनवगुप्त तंत्रशास्त्र, साहित्य और दर्शन के प्रौढ़ आचार्य थे और इन तीनों विषयों पर इन्होंने 50 से ऊपर मौलिक ग्रंथों, टीकाओं तथा स्तोत्रों का निर्माण किया है। अभिरुचि के आधार पर इनका सुदीर्घ जीवन तीन कालविभागों में विभक्त किया जा सकता है:
 
 
1. तान्त्रिक काल - जीवन के आरंभ में अभिनवगुप्त ने तंत्रशास्त्रों का गहन अनुशीलन किया तथा उपलब्ध प्राचीन तंत्रग्रंथों पर इन्होंने अद्धैतपरक व्याख्याएँ लिखकर लोगों में व्याप्त भ्रांत सिद्धांतों का सफल निराकरण किया। क्रम, त्रिक तथा कुल तंत्रों का अभिनव ने क्रमश: अध्ययन कर तद्विषयक ग्रंथों का निर्माण इसी क्रम से संपन्न किया। इस युग की प्रधान रचनाएँ ये हैं -- बोधपंचदशिका, मालिनीविजय कार्तिक, परात्रिंशिकाविवरण, तन्त्रालोक, तन्त्रसार, तंत्रोच्चय, तंत्रोवटधानिका। तंत्रालोकत्रिक तथा कुल तंत्रों का विशाल विश्वकोश ही है जिसमें तंत्रशास्त्र के सिद्धांतों, प्रक्रियाओं तथा तत्संबद्ध नाना मतों का पूर्ण, प्रामाणिक तथा प्रांजल विवेचन प्रस्तुत किया गया है। यह 37 परिच्छेदों में विभक्त विराट् ग्रंथराज है जिसमें बंध का कारण, मोक्षविषक नाना मत, प्रपंच का अभिव्यक्ति प्रकार तथा सत्ता, परमार्थ के साधक उपाय, मोक्ष के स्वरूप, शैवाचार की विविध प्रक्रिया आदि विषयों का सुंदर प्रामाणिक विवरण देकर अभिनव ने तंत्र के गंभीर तत्वों को वस्तुत: आलोकित कर दिया है। अंतिम तीनों ग्रंथ इसी के क्रमश: संक्षिप्त रूप हैं जिनमें संक्षेप पूर्वापेक्षया ह्रस्व होता गया है।
 
 
2. आलंकारिक काल - अलंकारग्रंथों का अनुशीलन तथा प्रणयन इस काल की विशिष्टता है। इस युग से संबद्ध तीन प्रौढ़ रचनाओं का परिचय प्राप्त है - काव्य-कौतुक-विवरण, ध्वन्यालोकलोचन तथा अभिनवभारती। काव्यकौतुक अभिनव के नाट्यशास्त्र के गुरु भट्टतौत की अनुपलब्ध प्रख्यात कृति है जिसपर इनका "विवरण" अन्यत्र संकेतित ही है, उपलब्ध नहीं। लोचन, आनन्दवर्धन के "ध्वन्यालोक" का प्रौढ़ व्याख्यानग्रंथ है तथा अभिनवभारती, भरत मुनि के नाट्यशास्त्र के पूर्ण ग्रंथ की पांडित्यपूर्ण प्रमेयबहुल व्याख्या है। यह नाट्यशास्त्र की एकमात्र टीका है।
 
 
3. दार्शनिक काल - अभिनवगुप्त के जीवन में यह काल उनके पांडित्य की प्रौढ़ि और उत्कर्ष का युग है। परमत का तर्कपद्धति से खंडन और स्वमत का प्रौढ़ प्रतिपादन इस काल की विशिष्टता है। इस काल की प्रौढ़ प्रतिपादन इस काल की विशिष्टता है। इस काल की प्रौढ़ रचनाओं में ये नितांत प्रसिद्ध हैं---भगवद्गीतार्थसंग्रह, परमार्थसार, ईश्वर-प्रत्यभिज्ञा-विमर्शिणी तथा ईश्वर-प्रत्यभिज्ञा-विवृति-विमर्शिणी। अंतिम दोनें ग्रंथ अभिनवगुप्त के प्रौढ़ पांडित्य के निकषग्रावा हैं। ये उत्पलाचार्य द्वारा रचित "ईश्वरप्रत्यभज्ञ" के व्याख्यान हैं। पहले में तो केवल कारिकाओं की व्याख्या और दूसरे उत्पल की ही स्वोपज्ञ वृत्ति (आजकल अनुपलब्ध) "विवृति" की प्रांजल टीका है। प्राचीन गणनानुसार चार सहस्र श्लोकों से संपन्न होने के कारण पहली टीका "चतु:सहस्री" (लघ्वी) तथा दूसरी "अष्टादशसहस्री" (अथवा बृहती) के नाम से भी प्रसिद्ध है जिनमें टीका अब तक अप्रकाशित ही है।
 
आज भी प्रासंगिक हैं आचार्य अभिनवगुप्त
 
अभिनवगुप्त के युग के जैसी समस्यायें और चुनौतियां समाज के सामने थी, वैसी ही चुनौतियां बौद्धिक और सामजिक स्तर पर आज भी हमारे सामने हैं। इसी आचार्य अभिनवगुप्त का दार्शनिक चिंतन जितना प्रासंगिक 10वीं-11वीं सदी में था, वैसा ही आज भी है। मतलब आज जम्मू कश्मीर के बारे में बहस और चिंतन का विषय बदलने का आवश्यकता है। प्राचीन शारदाखण्ड भारत का ऐसा सांस्कृतिक केंद्र रहा है जिसका स्पंदन और असर देश के सूदूर प्रांत में भी महसूस किया जाता रहा है। इस सांस्कृतिक, बौद्धिक और दार्शनिक प्रयोगशाला के निर्माण में देश के हर क्षेत्र के मनीषियों और विद्वानों का योगदान रहा है, चाहे वो दक्षिण के केरल औऱ कर्नाटक के हों या पूर्व में असम या बंगाल के या फिर गंगा-यमुना की घाटियों से आयें हों। इसी प्रकार देश का शायद ही कोई ऐसा क्षेत्र होगा जहां शारदाखण्ड कश्मीर की प्रतिभा का प्रतिबिम्बित न हुआ हो। जब अभिनवगुप्त प्रत्यभिज्ञा पर बल देते हैं जो जीव के अंतर में विद्यमान शिव की पहचान की बात करते हैं। लेकिन आज हमारे सामने जन-जन के मन में बसे विराट राष्ट्र की प्रत्यभिज्ञा की बड़ी चुनौती है जिसका समाधान आचार्य अभिनवगुप्त के बताये मार्ग पर ही है।

sabhar 

Friday, May 17, 2019

Open Letter to Sh. Mohan Bhagwat Ji Sar Sangh Chalak

Namaste Bhagwat ji,

As I write this, Delhi is voting in the 6th phase of this massive election and hopefully we will all see Sh. Narendra Modi come back to power for another 5 years.
Many Hindus, including myself, take this election to bring back Narendra Modi as a civilizational battle to protect the Hindu civilization from decline in the land of its birth.
Tens of millions of us had wet eyes when we saw Modi ji on TV take a Ganga-Snana (गंगा-स्नान) and chant ‘mantras’ (मंत्र) during the Kumbh Mela earlier this year. In the pursuit of secularism the Bharatiya state and its elected heads forgot that they are inheritors of the thousands of years old Bharatiya civilization and that this nation bereft of its spiritual roots will simply be a lump of land, soulless, bereft of its core values. They forgot that the basis of this nation and its core-values has been the Hindu values upon which have risen the world’s greatest faiths and religions, and, have sustained peacefully, several others which entered from the west.
Finally, in Narendra Modi we have a practicing Hindu as an elected Prime Minister, not ashamed of demonstrating his Hindu-ness (and on the contrary proud of it). This has been rejuvenating.
However, I wish to draw your attention to a few issues which will continue to tie the Hindu society down in a quandary and prevent its re-invigoration even if Modi ji were to come back to power.

1. Articles 26 to 30 of the Bharatiya Constitution

1.a) Article 26 promises freedom to all religions in Bharat to maintain institutions for charitable and religious purposes, and, manage the affairs of their religion without interference of the state.
While Article 26 is being applied to all religious minorities in Bharat in letter and spirit, Hindu religious institutions are being subject to endless interference from the Bharatiya state. From government appointees sitting on temple boards to interference in management of temple-owned lands, HR&CE and such acts implemented by nearly ALL state governments across Bharat ensure Hindus cannot spend the temple-money (Hundi donations or land rentals) for promotion of their Dharma and activities dependent upon successful running of temples — such as supporting small temples, build and maintain Veda Pathshalas, build and maintain orphanages and Gaushalas. Temples are the mainstay of Hindu DharmaHR&CE and such govt departments are designed to debilitate Hindu Dharma.
1.b) Article 30 guarantees to all minorities that they will be free to establish and administer educational institutions without interference from the government, even if they are funded by the government.This means that Christian-run schools, with land allotted by the government, can have Church prayers for all students, and Jamia Milia Islami, a university fully-funded by government of Bharat can have a mosque inside the college campus and start each class session with invocation of Allah. Fair enough!
Shockingly, institutions run by the majority Hindu community, basis the limitations imposed by Article 28, are NOT allowed to function according to their religious preferences. This means that a Lingayat or Chinmaya Mission institution, with land allotted by the government, cannot be allowed to teach the wisdom of the Gita as part of its curriculum.
The recent case against starting the morning invoking the ‘Asato Ma Sadgamaya’ (ॐ असतो मा सद्गमय) in Kendriya Vidyalayas is because of this constitutional discrimination against the Hindus.Only an apartheid state discriminates against the majority! This MUST change!
There are constitutional amendments to Articles 26 to 30 recommended in the now lapsed Dr. Satyapal Singh Private Member Bill. These MUST be adopted by the new government.

2. Foreign funding via FCRA

In 2016–17 60% of Rs.18,500 Crores entered the country via organisations with explicit affiliations with international Christian Missionary organisations, destined for Christian Missionary organisations in Bharat. This is in spite of the crackdown of this NDA government on foreign-funded NGOs. You will be shocked to learn that this money is only increasing each year.
Compare this influx of nearly Rs.11,000 Crores for Christian missionary work, with Rs.550 Crores that came in for Indic Religious institutions, ie: religious institutions run by Hindus, Sikhs, Buddhists and Jains, put together.
With the temple money not available to Hindus for protecting and spreading their religion and on top of it, this massive asymmetric influx of foreign funding for spreading Christianity, Hindu Dharma is being killed slowly but surely. This must change!
#HinduCharter, a project started by Hindus from all over the country, demands that all “institutional” foreign-funding must be banned. Only NRIs/OCIs/PIOs however, in their individual capacity, must be free to donate to Bharatiya religious institutions — including that or all minorities.

3. Muslim Population Explosion in Bharat AND the urgent need for call for large scale Ghar Wapsi

As societies around the world urbanise they produce less and less children. In Europe, US, Australia couples are producing 1.3 to 1.8 children per couple. The population replacement rate is 2.1 children per couple.
Hindus are producing 2.2 children per couple, barely at replacement rate. However, the Muslim population in Bharat is producing 3.4 children per couple including in rich and educated states such as Kerala. This trend is no different from Muslims in Europe who are growing at similar rates.
If this is allowed to continue then Bharat is inevitably going to become a Muslim majority nation. Our liberals can continue to argue about whether it will take 50 years or 200 years. The demographic change of Bharat will be inevitable.
Asking Hindus to produce more children OR forcible birth-control of Muslim populations of Bharat are not practical solutions. The only feasible solution is to call for large scale GharWapsi of Bharatiya Muslims. Millions of Muslims in Bharat are acutely aware of their Hindu roots and to date (proudly) retain references to their jatis in their names.
Asking Muslims to feel proud of their Bharatiya roots and call them Swadeshi Muslims is not good enough either. Millions of Muslims in Bharat will return to Hindu Dharma, if offered open platforms and processes for their Shuddhi, and a way to return to their original jatis. 
Hindu Dharma enables formation of new Jatis if there is a lack of acceptance among any mainstream Jatis. Marriages of their daughters, which is the biggest problem for returning Muslims, can be done within these multitude of newly formed Jatis.
RSS is the ONLY non-governmental organisation in the country capable of large scale mobilization of resources for enabling re-conversion of Bharatiya Muslims to Hindu Dharma. No force. Only an open invitation and a formal institutionalized process of re-entry and support structure post such return.
The RSS must set goals such as 10% of Bharatiya Muslims reconverted to Hindu Dharma. After all propagation of religion is a constitutional right offered to ALL religions in this country, including Hindus.
This is an urgent call of the hour. If the RSS does not open its arms to Muslims wanting to return to Hindu Dharma, RSS as well as Hindu Dharma will perish in the land of its own birth. Even blaming RSS for not acting in time will not remain an option, for without Hindus, the memory and contribution of the RSS will be shoved to the dustbin of history.
Before I end, I must share with the readers of this letter what Dr. Hedgewar had to say as the basis of forming the RSS:
“The Hindu culture is the life-breath of Hindustan. It is therefore clear that if Hindustan is to be protected, we should first nourish the Hindu culture. If the Hindu culture perishes in Hindustan itself, and if the Hindu society ceases to exist, it will hardly be appropriate to refer to the mere geographical entity that remains as Hindustan. Mere geographical lumps don’t make a nation.”
Mere geographical lumps don’t make a nation! A Muslim or Christian majority Bharat will not remain Bharat any more!
Regards & Pranam,
Rahul Dewan
(The author is Entrepreneur, Blogger (Politics, Religion, Spirituality, Business), Green Activist and Spiritual Seeker.)
(This post first appeared on medium.com on May 12, 2019 and has been reproduced here in full.)

Monday, April 22, 2019

वामपंथी आतंकवाद और आईसिस के इस्लामी जिहाद में कोई अंतर नहीं, बिलकुल नहीं


वामपंथ ने 'सर्वहारा' का नाम लेकर पिछले 20 सालों में 12000 हत्याएँ कीं, जिसमें 2700 सुरक्षा बलों का बलिदान शामिल है। और मरने वाले कौन थे? प्राइवेट जेट से घूमने वाले जॉन ट्रवोल्टा टाइप के लोग, या प्राइवेट आइलैंड में छुट्टियाँ बिताने वाले जॉनी डेप्प की हैसियत वाले?
सबसे पहले मैं यह साफ कर देना चाहता हूँ कि मुझे न तो इससे मतलब है कि पहले के तथाकथित क्रांतिकारी लेनिन, माओ या विचारक मार्क्स ने क्या लिखा था, उनके विचार क्या थे, न ही इससे कि किसी आतंकी के हाथों की आसमानी किताब किसी मज़हब के बारे में क्या कहती है। मतलब इसलिए नहीं है कि विचारों का, या किताबी बातों का, सच्चाई और जमीनी हक़ीक़त से दूर-दूर तक कोई वास्ता नहीं है। इसलिए, मैं किसी के विचारों के नाम पर, किसी किताब की कुछ आयतों के नाम पर जो हो रहा है, उसमें ज्यादा रुचि रखता हूँ, बजाय इसके कि कहीं दूसरी जगह यह कहा गया है कि हम तो शांतिप्रिय लोग हैं, या हम सर्वहारा की क्रांति कर रहे हैं।
मैं उन प्रतीकों का, उन बातों के वीभत्स रूप को हर रोज झेल रहा हूँ, इसलिए मैं अपने अनुभव, अपने समाज के अनुभव और अपने आस-पास देख कर बातें करूँगा न कि लेनिन ने जो हत्याएँ कराईं, माओ ने जो सामूहिक नरसंहार कराए, उसके पीछे की वजह क्या थी। मुझे इससे कोई मतलब नहीं है कि फ़लाँ किताब के फ़लाँ चैप्टर में यह लिखा है कि एक मानव की हत्या पूरे मानवता की हत्या है, क्योंकि ये कहने की बातें हैं, इनका वास्तविकता से कोई नाता नहीं है।
वामपंथ क्या है? एक ख़ूनी विचारधारा जिसका नाम लेकर भारत में पिछले 20 सालों में 12000 हत्याएँ कर दी गईं जिसमें 2700 सुरक्षा बलों का बलिदान शामिल है। ये हत्या किसके नाम पर हुई? ‘पीपुल्स’ यानी आम जनता के नाम पर, सर्वहारा के नाम पर। मरने वाले कौन थे? प्राइवेट जेट से घूमने वाले जॉन ट्रवोल्टा टाइप के लोग, या प्राइवेट आइलैंड में छुट्टियाँ बिताने वाले जॉनी डेप्प की हैसियत वाले?
जी नहीं, भारत में नब्बे प्रतिशत लोग या गरीब हैं, या बहुत ज़्यादा गरीब हैं। मरने वाले आँकड़े सरकारी हैं, और जो मरे हैं, वो अधिकतर वैसे लोग हैं जो भारत के सीमित संसाधनों के बीच किसी तरह जीवनयापन कर रहे थे। वो भी वही आम इन्सान थे जिनका नाम इनके पीपुल्स वार ग्रुप से लेकर पीपुल्स लिबरेशन आर्मी या कम्यून की बातों में होता है।
हत्या तो महज़ एक संख्या है जो बड़ी या छोटी हो सकती है, जिसे हम या आप आँक सकते हैं, लेकिन उन 68 जिलों का क्या जहाँ माओवादी या नक्सली आतंक के साए में लोग जीने को मजबूर हैं? क्या उस डर को आँका जा सकता है? क्या उन बच्चियों पर किए गए बलात्कार, उन परिवारों पर की गई हर रोज की हिंसा को संख्या में आँका जा सकता है? शायद नहीं।
‘सर्वहारा’ शब्द इन वामपंथी आतंकवादियों के लिए एक ढाल है। ‘जन आंदोलन’ इनके निजी स्वार्थ के लिए पावर तक पहुँचने का एक ज़रिया मात्र है। आप खूब ढोल और डुगडुगी बजा लीजिए और क्रांति के गीत गाइए, लेकिन हर वामपंथी नेता के पीछे हिंसा और व्यभिचार की मेनस्ट्रीमिंग आपको दिख जाएगी। ‘तुम्हारी देह कम्यून की संपत्ति है’ जैसे जुमले सुना कर महिला काडरों का सेक्सुअल मोलेस्टेशन और रेप, इन कामपंथियों का ट्रेडमार्क है।
इनके नेताओं को कभी सुनिए कि कैसे इन्होंने शब्दों का सहारा लेकर सपने दिखाए हैं और जहाँ भी इन्होंने राज किया है, वहाँ पोलिटिकल किलिंग्स की बाढ़ ला दी है। मुझे याद आता है इसी विचारधारा के एक नेता का बयान जो सीपीएम जेनरल सेक्रेटरी विजयन थे, जिसने अपने पार्टी के लोगों को बंगाली कम्यूनिस्टों का तरीक़ा अपनाने को कहा था कि विरोधियों को ज़िंदा गाड़ दो नमक की बोरियों के साथ कि उनकी हड्डियाँ भी पुलिस को न मिले। इस एक वाक्य से भारत के दो कम्युनिस्ट शासित राज्य की सच्चाई बाहर आ जाती है। इन दोनों के राज्य में कितनी राजनैतिक हत्याएँ हुई हैं, वो गूगल कर लीजिए।
अब इस बात पर चर्चा कि मैंने इन्हें आईसिस के जिहादियों से क्यों जोड़ा। बहुत आसान है इन्हें ऐसा मानना। दोनों ही विचारधाराएँ आतंकी हैं, हिंसक हैं, और लोगों की जान लेना इन दोनों में जस्टिफाइड है। इस्लामी आतंकी कहते हैं कि मज़हब के नाम पर सारी मार-काट सही है, माओवंशी कामपंथी और लेनिन की नाजायज़ औलादें कहती हैं कि क्रांति की राह में जो भी आएगा निपटा दिया जाएगा।
दोनों के लिए फ़ंडिंग भी बाहर से ही आता है। अपहरण करके पैसा जुटाना दोनों का मुख्य काम रहा है। धमकी और वसूली से पैसा माँगना भारत में हर नक्सल प्रभावित क्षेत्र में एक मुख्य तरीक़ा रहा है। दोनों ही तरीक़ों में बाहरी देशों का खूब इन्वॉल्वमेंट है। दोनों ही तरीक़ों में पोलिटिकल हैंडलिंग और संरक्षण, अपने हितों को देखते हुए राष्ट्र या राज्य की सत्ता देती रही है।
एक तरफ लक्ष्य सबको एक ख़लीफ़ा के नीचे लाना है, दूसरी तरफ कम्यून है। एक तरफ इस्लाम मज़हब और मुसलमान होना, अपने समाज और देश से बड़ी चीज है, दूसरी तरफ कम्यून के लिए समर्पण इतना प्रबल कि भारत और चीन लड़े तो भारतीय कम्युनिस्ट चीन के साथ खड़े दिखते हैं। विचारधारा सर्वोपरि हो जाती है, और उसके रास्ते में काफ़िर आए तो मारा जाता है, काटा जाता है, गोलियों से छलनी कर दिया जाता है, शांतिदूत बन कर बाज़ारों में फट जाता है या फिर सड़कों पर ट्रक चला कर लोगों को रौंद देता है।
दूसरी तरफ, कम्यून इतना सर्वोपरि हो जाता है कि सीआरपीएफ़ के जवानों को, स्कूली मास्टरों को, उन सरकारी लोगों को जिनके घर में वो अकेले कमाने वाले हों, बहुत गरीब तबके से आते हों, घेर कर मारने में ये एक बार सोचते भी नहीं। खुद घिर जाने पर बच्चों को ढाल बना कर बचते हैं, और अपने कम्यूनिस्ट कामरेड (कॉमरेड नहीं, कामरेड) की लाश में भी बम सिल देते हैं कि उसकी लाश में भी धमाका करके दो-चार और गरीब घरों के जवानों की बलि वामपंथ के नाम पर चढ़ जाए।
दोनों ही विचारधाराएँ, ख़ौफ़ और आतंक के आहार पर ज़िंदा हैं, और ये जिन लोगों की बेहतरी के सपने बेचते हैं, वो मुसलमान इन इलाकों में सबसे बदतर जीवन जीता है, और वो गाँव वाले बुनियादी सुविधाओं से दूर हैं। बात यह है कि अगर गाँव वाले तक सड़क, स्कूल, हॉस्पिटल पहुँच गए तो फिर इन वामपंथी आतंकवादी नरपिशाचों के जीवन का परपस, यानी लक्ष्य ही खत्म हो जाएगा। क्योंकि जेनएनयू जैसे संस्थानों में चलने वाली दारू की महफ़िलों में, गाँजे के ज्वाइंट फूँकते कामरेड ज्ञान तो बहुत बाँट देते हैं, शब्द तो बहुत जुटा लेते हैं, लेकिन इनकी निजी जिंदगी और इनके आदर्शों की बात में ज़मीन आसमान का फ़र्क़ है।
दोनों ही विचारधाराएँ आम जनता, गरीब, निर्दोष, निर्बल लोगों की लाशों के ख़ून से लाल और काले हो चुके झंडों के नीचे चलती हैं। दोनों के प्रवर्तकों ने भले ही मजहब और विचारों में ‘नशे’ आदि को नकारने की बात कही हो, लेकिन नशा और नशे में धुत्त आतंकी, इसी अफ़ीम को लोगों तक पहुँचा कर रिक्रूट करते हैं। नशा सिर्फ नशीली वस्तुओं का नहीं होता, नशा तो बातों का भी हो सकता है कि देखो वो दिन जब पूरा विश्व इस्लाम के झंडे तले होगा, देखो वो दिन जब पूरी दुनिया सर्वहारा के पैरों तले होगी।
किस जगह, किस नेता ने सर्वहारा को दुनिया दे दी? आईसिस के इस्लामी मूल्यों के तथाकथित रक्षक रात में महिलाओं का बलात्कार करते हैं, और दिन में कहते हैं बुर्क़ा पहन कर चलो, वरना दूसरे मर्द तुम्हें देख लेंगे। वैसे ही, लम्पट कामपंथी हास्यास्पद तरीके से लोकतांत्रिक मूल्यों की बात करता है, और अपने विरोधियों को ज़िंदा दफ़नाने, बीच सड़क काट देने, और स्टेट मशीनरी का दुरुपयोग करके सैकड़ों लोगों को गायब करने से हिचकिचाता नहीं। इनकी नई पौध, लिंगलहरी कन्हैया बेगूसराय के कोरैय गाँव में विरोध का काला झंडा देखने पर अपने गुंडे छोड़ देता है और जो घर में घुस कर लोगों को पीटते हैं, सर फोड़ देते हैं।
इसलिए, जो ज़मीन पर है उसकी बात करते हैं। जो हो रहा है, उसकी ही बात होनी चाहिए। मार्क्स ने किस समाज की बात की थी, और उसके विचारों से प्रभावित तमाम राष्ट्र और नेता कैसे तानाशाह बन गए, उसे भी याद रखना ज़रूरी है। इस्लाम अगर शांति का मज़हब है, तो फिर उसके नाम पर जो हर दूसरे दिन लोगों को मारा जाता है, उस पर इस्लाम चुप कैसे है?
फिर मैं, किताब में क्या लिखा है, और कम्युनिस्ट मैनिफ़ेस्टो में कौन सी बात कही गई है, उससे क्या मतलब रखूँ? लिखा तो हमारी भी किताबों में बहुत कुछ था जिसमें इसी इस्लामी आतंक की आग लगा दी गई थी। कहने को तो जेएनयू में भी शिक्षा दी जाती है, और स्वतंत्रता है लेकिन वहाँ ‘भारत तेरे टुकड़े होंगे’ का नारा तो लगता है।
फिर कम्यूनिस्टों के सत्ता से विरोधियों को किसी भी क़ीमत पर हटाने और आईसिस के ख़िलाफ़त के लक्ष्य में कौन-सा अंतर है? दोनों ही रक्तरंजित विचारधाराएँ हैं। उसके लिए इनके मैनिफेस्टो और मार्क्स की दाढ़ी कितनी अच्छी थी पर मैं क्यों स्खलित होता रहूँ, मेरे लिए तो इनके झंडे का लाल रंग उन करोड़ों लोगों की सामूहिक हत्या का रंग है जो इस आतंकी नक्सल माओवादी लेनिनवादी कामपंथी विचार की बलि चढ़ गए।
इसलिए, जब मैं लिखता हूँ कि अब ऐसी क्रांतियों की प्रासंगिकता नहीं है, तब मैं यह कहना चाहता हूँ कि अब दुनिया से ज़ारशाही और राजाओं का चलन जा चुका है। अब सर्वहारा ही वोट कर के अपने नेता को चुनती है। अब सर्वहारा के ही सर पर कोई पार्टी छत ला रही है, कोई सिलिंडर दे रहा है, कोई बिजली पहुँचा रहा है, कोई सड़क, हॉस्पिटल, स्कूल।
आयुष्मान योजना क्या सर्वहारा के लिए नहीं? गरीब किसानों के लिए तमाम योजनाएँ क्या सर्वाहारा के लिए नहीं? गाँवों की सड़कें क्या सर्वहारा के लिए नहीं? घरों में लटकते बल्ब क्या सर्वहारा के लिए नहीं? शौचालय की व्यवस्था और साफ होती गंगा क्या सर्वहारा के हिस्से नहीं आती? करोड़ों छतें क्या सर्वहारा के परिवार के लिए नहीं?
फिर ये कम्युनिस्ट लम्पट, कामांध कामरेड, लेनिन और माओ जैसे आतंकियों को अपना आदर्श मान कर किसका भला करने का लक्ष्य लिए चल रहे हैं? सर्वहारा की बात तो हर पार्टी कर रही है। कॉन्ग्रेस भी ‘गरीबी हटाओ’ ही कह रही है, भाजपा भी हर भारतीय पर 1,08,000 रूपए हर साल सब्सिडी या योजनाओं के नाम पर ख़र्च कर रही है। केजरीवाल, मायावती, अखिलेश, लालू, नायडू, ममता, कुमारस्वामी, योगी, मोदी सब तो ग़रीबों की ही बात कर रहे हैं।
फिर किस सर्वहारा को सत्ता दिलाने की योजना बना रहे हैं वामपंथी? मतलब साफ है कि ये सब चोर हैं, जिनका उद्देश्य कुछ और ही है। सर्वहारा को सत्ता किस वामपंथी या समाजवादी व्यक्ति ने दे दी, ये इतिहास जानता है। लालू जैसा सर्वहारा जब सत्ता में पहुँचा तो न सिर्फ अपने समय का सबसे बड़ा घोटाला किया बल्कि जानबूझकर शिक्षा से पूरी आबादी को वंचित रखा। कानून व्यवस्था की बर्बादी को चरम तक ले गया। बंगाल और केरल की बात पहले कर चुका हूँ।
इसलिए, ये जंगलों में छुप कर, अपने स्वार्थ के लिए, देश को तोड़ने, सरकारों को डीएस्टेबिलाइज करने, और दूसरी तरह के आतंकियों के लिए एक सपोर्ट सिस्टम बन कर खड़े हो रहे हैं। इनका उद्देश्य अब चिरकुटों वाला हो गया है जिसमें ये किसी गाँव वाले को वोट करने से रोक देते हैं तो खुश हो जाते हैं। आने वाले पाँच सालों में इनको कॉम्बिंग कर के जंगलों से घसीट कर निकाला जाएगा, और इस विचारधारा के ताबूत में अंतिम कीलें बहुत जल्द ठोकी जाएँगी। ज़रूरत थी एक सही तरह के सरकार की, जो आतंकी को आतंकी कहे, वामपंथी चरमपंथी उग्रवादी कह कर, उसे डाउनप्ले न करे।
वो सरकार आई तो ये सिमट गए, वो सरकार फिर आएगी, तो ये लाल सलाम कहाँ जाएँगे, ये कहने की आवश्यकता नहीं है।

Monday, April 8, 2019

Putting Secularism Into Perspective


Like before the last election in 2014, this time too, there are voices by so-called intellectuals that “secularism is in danger” if BJP comes to power again. Though Bharatiyas are generally highly intelligent, when it comes to secularism, most intellectuals, media and politicians get the concept wrong.
Since secularism is a western ‘invention’, I would like to put it into perspective:
Contrary to the general perception in Bharat, secular is not the opposite of communal. Communal as such is not objectionable either. It means ‘pertaining to a community’. In Germany, elections to local bodies are called “communal elections” (Kommunalwahlen).
Secular means worldly and is opposite to ‘religious’. Now ‘religious’ in this context refers to Christianity, i.e. to a well-organized, dogmatic religion that claims that it is the sole keeper of the Truth, which God himself has revealed to his Church.
And what is this revealed truth? In short: the human being is born in sin, which dates back to Adam and Eve. But fortunately, some 2000 years ago, God had mercy on humanity and sent his only son Jesus Christ to earth to redeem us by dying for our sins on the cross, then rising from the dead and going back to his father up in heaven. However, to be able to get the benefit of Jesus’ sacrifice, one must be baptized and become a member of the Church, otherwise one will be singled out for eternal hell on Judgment Day.
Understandably, such claims did not appeal to those who used their brains, but for many centuries they had to keep quiet or risk their lives.  The reason was that for long the Church was intertwined with the state, and  harsh laws made sure that people did not question the ‘revealed truth’. Heresy was punished with torture and death. Even in faraway Goa, after Francis Xavier called the Inquisition to this colony, unspeakable brutality was committed against Bharatiyas. In many Muslim countries till today, leaving Islam is punishable by death.
Significantly, those centuries, when Church and State were intertwined, when the clergy prospered and the faithful sheep suffered are called the dark ages. And the time when the Church was forced to loosen its grip, is called the age of enlightenment, which started only some 350 years ago. Scientific progress, which was greatly fostered by Bharat’s knowledge reaching Europe, played a crucial role in curbing the influence of the Church.
Slowly, the idea that reason, and not blind belief in a ‘revealed truth’, should guide society, took root in Europe and this lead to the demand for separation between State and Church. Such separation is called secularism. It is a recent phenomenon in the west.
Today, most western democracies are ‘secular’, i.e. the Church cannot push her agenda through state power, though most western democracies still grant Christianity preferential treatment. For example in Germany, the Constitution guarantees that the Christian doctrine is taught in government schools, or that Church tax is collected by the state. Nevertheless, the present situation is a huge improvement over the dark ages.
In Bharat, however, the situation was different. Here, the dominant faith of the Bharatiya people never had a power centre that dictated unreasonable dogmas and needed to be propped up by the state. Their faith was based on insights of the Rishis and on reason, intuition and direct experience. It expressed itself in a multitude of ways. Their faith was about trust and reverence for the One Source of all life. It was about doing the right thing at the right time according to one’s conscience. It was about The Golden Rule: not to do to others what one does not want to be done to oneself. It was about having noble thoughts. It was about how to live life in an ideal way. It was about Satya and Dharma.
However, this open atmosphere changed when Islam and Christianity entered Bharat. Bharatiyas, who good naturedly considered the whole world as family, were despised, ridiculed and even killed in big numbers only because they were ‘Hindus’ (which is basically a geographical term). Bharatiyas did not realise that dogmatic religions were very different from their own, ancient Dharma. For the first time they were confronted with merciless killing in the name of God. Voltaire, who fought the stranglehold of the Church in Europe, had accurately observed, “Those who can make you believe absurdities, can make you commit atrocities”.
During Muslim rule Hindus had to lie low for fear of their lives, and during British rule they were ridiculed by missionaries, and cut off from their tradition with the help of ‘education’ policies. Naturally, this took a toll on their self-esteem. In fact, till today, this low self-esteem especially in many members of the English educated class is evident to outsiders, though it may not be so to the persons concerned.
Swami Vivekananda’s efforts to give Hindus back their spine did not impact this class of people. Nevertheless, it is a great achievement that Hindu Dharma survived for so many centuries, whereas the west succumbed completely to Christianity and over 50 countries to Islam in a short span of time.
Coming back to secularism. Though Hindu Dharma survived and never dictated terms to the state, ‘secular’ was added to the Constitution of Bharat in 1976. There might have been a reason, as since Independence, several non-secular decisions had been taken. For example, Muslim and Christian representatives had pushed for special civil laws and other benefits and got them.
However, after adding ‘secular’, the situation did not improve. In fact the government seemed almost eager to benefit specifically the dogmatic religions (which secularism is meant to counter) and occasionally had to be restrained in its eagerness by the courts.
This is inexplicable.  Why would ‘secular’ be added and then not acted upon? And the strangest thing: ‘secular’ got a new, specific ‘Indian’ meaning. It means today: fostering those two big religions which have no respect for Hindus and whose dogmas condemn all of them to eternal hell – a fact that most Hindus simply laugh off or don’t even know.
It is a sad irony. Can you imagine the Jews honouring the Germans with preferential treatment instead of seeking compensation for the millions of Jews killed? Yet Islam and Christianity that have gravely harmed Bharatiyas over centuries got preferential treatment by the Bharatiya state, and their own beneficial dharma that has no other home except the Bharatiya subcontinent, is egged out. And to top it, this is called ‘secular’!
Obviously Bharatiyas have not learnt from the European experience. Hindus have not yet realized the intention of the dogmatic religions, though they say it openly: “We alone have the full truth. All must accept this.”
Media and politicians did their best to muddy the water. They called parties that represent a religious group, ‘secular’, instead of ‘religious’. When the state gave in to demands made by Christianity and Islam, it was (falsely of course) called ‘secular’.
Why did the government do this? Did it want to give its citizens a firsthand experience of what the dark ages were like? In the interest of all Bharatiyas it surely is wise for the state to ignore the powerful, dogmatic religions and focus on all citizens equally. This means being ‘secular’ in the western sense.
Yet this advice is valid only regarding dogmatic religions which demand blind belief in unverifiable and even divisive dogmas. It does not apply to Dharma.
It would be a disaster if the state would also ignore Dharma and become adharmic. Every citizen needs to do what is right under the given circumstances, including politicians. This shows that Hindu Dharma, as Bharat’s tradition is called, is in a completely different category from religion. There must never be a separation between State and Dharma.
On the contrary, only when all politicians follow dharma, when they follow their innate knowledge about what is the right thing to do, Bharat has the best chance to truly shine again and become the famed golden bird.
(This article first appeared on author’s blog on 5th April, 2019 and has been reproduced here in full.) , She is our Elder Sister Ms maria Wirth,